पानीपुरी वाली भाभी की चुदाई

प्रेषक : दीपक …

हैल्लो दोस्तों, अब में स्टोरी शुरू करने से पहले पानीपुरी वाली भाभी के बारे में बता दूँ। उनका नाम कमला है और उनके फिगर के क्या कहने? उनके 36 साईज के बूब्स और उनकी 38 साईज की गांड मज़ा आ जाता है। उनकी उम्र 32 साल है और उनके एक 8 साल का लड़का भी है, लेकिन आज भी उनके बूब्स बहुत टाईट है। हाँ उनका रंग थोड़ा सांवला है, जो कि मुझे बहुत पसंद है। अब में सीधा स्टोरी पर आता हूँ, दोस्तों मेरी कमला से मुलाक़ात उसकी पानीपुरी की दुकान पर हुई थी, जो सूरत में बहुत प्रसिद्ध थी और में वहाँ का रेग्युलर ग्राहक था। में उसकी दुकान पर लगभग रोज जाता था, अब वहाँ रोज जाने की वजह से मुझे सब जानने लगे थे और उसका पति मुकेश जो काफ़ी पतला दुबला था, वो हमें पानीपुरी खिलाता था और कमला पीछे बैठकर मुझको छुपके-छुपके देखती रहती थी।

फिर धीरे-धीरे हमारी बातचीत चालू हुई और अब में उनके साथ मज़ाक भी कर लेता था, वो हमेशा सजधज के ही रहती थी जैसे किसी को लगता ही नहीं कि वो पानीपुरी वाली की बीवी है। अब घर में अकेले होने के कारण वो अपने पति का हाथ बटाने उसकी दुकान पर आ जाती थी। ये बात बारिश की समय के समय की है, में रोजाना की तरह रात को उसकी शॉप पर गया और पानीपुरी खा कर निकल ही रहा था कि तब तक मुकेश ने मुझे पीछे से आवाज़ दी और बोला कि साहब क्या आप कमला को घर छोड़ देंगे? उसे घर जाना है। उसका घर रास्ते में ही पड़ता था तो मैंने उसे हाँ बोल दी और वो मेरी बाइक पर बैठ गई और फिर हम निकल पड़े। उस दिन वो थोड़ी ज्यादा ही हॉट लग रही थी और मौसम भी सेक्सी था।

अब उसके 36 साईज के बूब्स मेरी पीठ को छू रहे थे। फिर मैंने भी जानबूझ कर ब्रेक लगाना शुरू कर दिया और वो अब मेरे ऊपर गिर रही थी और अब मुझे उसके निप्पल छू रहे थे। अब मेरा लंड तन गया था, फिर थोड़ा आगे जाने के बाद अचानक तेज बारिश चालू हो गई, लेकिन मैंने गाड़ी नहीं रोकी और हम चलते गये। अब हम दोनों पूरे गीले हो गये थे और अब हमें ठंड भी लग रही थी। फिर कमला ने मुझे पीछे से अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया, अब कभी-कभी वो अपना हाथ मेरे खड़े लंड तक ले जा रही थी। अब तो मेरे मन में उसे चोदने की हलचल पैदा हो गई थी, फिर हम घर पहुँचे और कमला ने मुझे अंदर आने को कहा। जब बारिश बहुत तेज थी तो में भी अंदर चला गया, उसका घर बहुत अच्छा तो नहीं था, लेकिन ठीक था। फिर उसने मुझे एक टावल दिया और एक पजामा जैसा दिया जो में पहन सकूँ।

फिर वो कपड़े चेंज करने रूम में चली गई और में वही हॉल में ही अपने कपड़े खोलकर बदन पोछने लगा। फिर मैंने नोटीस किया कि उसका कमरा थोड़ा सा खुला है और मुझे कोई अंदर से देख रहा है, तो मैंने भी नाटक किया और अपने मोटे लंड को अपने हाथ से रगड़ने लगा। फिर थोड़ी देर में वो भी अपने कपड़े पहनकर बाहर आ गई थी अब मैंने भी अपने कपड़े बदल लिए थे। अब उसने एक पतली सी नाइटी पहनी थी और अब उसके बड़े-बड़े बूब्स हवा मे झूम रहे थे। अब जब वो चल रही थी तो उसकी गांड हिल रही थी। फिर कमला ने मुझे चाय के लिए पूछा और फिर वो चाय बनाने किचन में चली गई। फिर जब वो मुझे चाय देने के लिए झुकी, तो उसके दोनों बूब्स नाइटी के अंदर से हवा में उछल रहे थे। अब ये देखकर तो मेरा लंड और तन गया था, जो कि साफ-साफ पजामे में दिख रहा था। अब मेरी नज़र उसके बूब्स पर ही थी। फिर मैंने चाय पीते समय चाय गिरने का नाटक किया और चाय अपने ऊपर गिरा दी, तो वो तुरंत दौड़कर मेरे पास आई और टावल से मेरे बदन को पोंछने लगी।

अब कभी वो मेरे खड़े लंड को तो कभी मेरी छाती को पोंछ रही थी। अब ऐसा करते समय उसके बूब्स मेरे बदन को छू रहे थे। अब में बहुत एग्ज़ाइटेड हो रहा था, फिर मैंने अचानक से उसके बूब्स पकड़ लिए। तो उसने मुझे देखा और बोली कि ये आप क्या कर रहे हो? तो मैंने भी बोल दिया कमला आई लव यू तुम बहुत सेक्सी हो, में तुम्हें चोदना चाहता हूँ और मुझे पता है मुकेश तुम्हें खुश नहीं कर सकता जितना में कर सकता हूँ। फिर में उसके बूब्स पकड़कर दबाने लगा और उसे किस करने लगा।  अब वो खुद को छुड़ाने की बहुत कोशिश कर रही थी, लेकिन मैंने उसकी एक नहीं सुनी। फिर थोड़ी देर में वो भी गर्म हो गई थी, फिर उसने मेरा लंड पकड़ लिया, तो मैंने भी उसकी नाइटी उतार दी और भूखे शेर की तरह उसके बूब्स दबाने लगा। अब में उसकी चूत में उंगली कर रहा था, उसकी चूत पर थोड़े- थोड़े बाल थे, अब उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी, अब वो मेरे खड़े लंड को ऊपर नीचे कर रही थी।

फिर उसने मेरे लंड को चूसना शुरू किया, अब वो छोटे बच्चों की तरह मेरा लंड चूस रही थी। अब थोड़ी ही देर में मेरा वीर्य निकलने वाला था और फिर वो मेरा पूरा वीर्य पी गई। फिर मैंने उसकी चूत को चाटना चालू किया, दोस्तों में काली चूत का दिवाना हूँ, काली चूत में लाल फुदी हाय मन करता है कि उसकी पूरी चूत को कच्चा चबा जाऊं। अब में उसकी चूत को पागलों की तरह चाट रहा था और काट भी रहा था। अब वो छटपटा रही थी और वो उसके मुँह से ओह आह्ह्हह्ह की आवाजे निकाल रही थी। इतनी देर में उसने मेरा पूरा मुँह अपने पैरो से दबा दिया और वो मेरे मुँह में ही झड़ गई। उसका पानी बहुत ही टेस्टी था, मुझे बहुत मज़ा आ गया था। अब वो काफ़ी खुश थी, फिर उसने मेरे लंड को चूसकर गीला किया। फिर मैंने उसकी दोनों टाँगे चौड़ी की और उसकी चूत पर अपना लंड रगड़ने लगा। अब वो पागल हो रही थी डाल दे अब नहीं रहा जाता, फाड़ दे मेरी चूत, मुकेश का लंड काफ़ी छोटा है, फाड़ दे मेरी चूत जल्दी डाल।

फिर मैंने उसकी चूत में एक झटके में अपना पूरा 6 इंच  लंबा और 3 इंच मोटा लंड डाल दिया। अब उसके मुँह से ज़ोर की आअहह निकली, उसकी चूत थोड़ी टाईट थी। फिर मैंने अपनी स्पीड तेज की और उसे जोर-जोर से चोदने लगा। अब उसके हॉल में आअहह ऑश की आवाजे गूंज रही थी, अब वो मुझे गाली देकर बोल रही थी फाड़ दे मेरी चूत, मुझे उस मुकेश की रांड बना दे, इस बीच वो 2 बार झड़ चुकी थी। अब उसकी चूत से पानी निकलकर उसकी गांड तक बह रहा था। फिर मैंने उसे अपनी गोद में बैठाया और उसे हवा में उछाल-उछालकर चोदने लगा। अब वो बहुत जोर-जोर से चिल्ला रही थी और में उतनी ही तेज उसे झटके दे रहा था। अब में अपना लंड उसकी बच्चेदानी तक टच कर रहा था, अब वो दर्द से चिल्ला रही थी। अब मेरा वीर्य निकलने वाला था, तो उसने बोला कि डाल दे अंदर जो होगा देखा जाएगा।

फिर मैंने अपनी पिचकारी उसकी चूत में ही छोड़ दी और उसको अपनी गोद में लेकर बैठ गया। अब उसके पति का आने का टाईम हो गया था और उसका बच्चा भी अपनी कोचिंग से आने वाला था। तो उसने मेरे लंड को अपनी जीभ से चाटकर साफ किया और अपनी चूत साफ़ की और फिर हमने कपड़े पहने और फिर में जाने लगा। अब वो काफ़ी खुश थी, फिर उसने मुझसे पूछा कि मुझे दुबारा कब चोदोगे? तो मैंने उससे कल का वादा किया और बोला कि कल गांड भी मारूँगा तैयार रहना। अब वो खुश हो गई और मैंने उसे 2 मिनट तक लिप किस किया और वहाँ से निकल गया। अब में उसे अक्सर चोदता हूँ और जब हमें मौका मिलता है, एक बार तो मैंने उसे थियेटर में भी चोदा था ।।

धन्यवाद …


Source: http://www.kamukta.com/feed/

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.